पैदल यात्रा पर निकले भाजपा युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष विनीत यादव

पैदल यात्रा पर निकले भाजपा युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष विनीत यादव

भानपुरा मंदसौर में शुक्रवार को जिला पंचायत के उपाध्यक्ष चुनाव में मनुप्रिया विनीत यादव के जीत हुई पत्नी की जीत के लिए  चुनाव से पूर्व विनीत यादव ने दुधाखेड़ी माता मंदिर पहुंचकर मन्नत मांगी थी विनीत यादव पूर्व गरोठ भानपुरा क्षेत्र के लोकप्रिय विधायक स्वर्गीय राजेश यादव के बेटे हैं पत्नी मनुप्रिया यादव जिला पंचायत के उपाध्यक्ष पद पर निर्वाचित हुई तो मन्नत पुरी करने के लिए वह पैदल दुधाखेड़ी माताजी के दर्शन करने के लिए मंदसौर से रवाना हो गए कल रात सीतामऊ में रुके और आज सुबह पदयात्रा शुरू कर दी यात्रा के दौरान जगह जगह उनका अभूतपूर्व तरीके से स्वागत हो रहा है मंदसौर से भानपुरा तहसील में स्थित दुधाखेड़ी माताजी मंदिर 130 किलोमीटर दूर है इस मंदिर मैं कहीं असाध्य रोग दूर होते हैं हर दिन मंदिर में भक्तों की भीड़ रहती है दुधाखेड़ी माता जी को मालवा का वैष्णव देवी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है जिला पंचायत उपाध्यक्ष पहले विजय मेहता का नाम तय हो गया था लेकिन अंतिम क्षणों में पार्टी ने मनुप्रिया विनीत यादव को अधिकृत कर दिया वह 1 मतों से विजई रही श्रीमती यादव के उपाध्यक्ष बनने पर पुरे विधानसभा क्षेत्र मे जमकर आतिशबाजी हुई मिठाई वितरण हुआ यादव समर्थको मे खुशी का माहोल बन गया,आगामी 2023 के विधानसभा चुनाव मे यादव परिवार विधानसभा टिकिट का प्रबल दावेदार रहेगा,इस क्षेत्र मे भाजपा को स्थाफित करने मे स्वर्गीय राजेव यादव का बहुत बडा योगदान हे पुरे क्षेत्र मे यादव समर्थको का बोलबाला हे श्रीमती यादव भानपुरा जनपद क्षेत्र के जिला पचायतं के वार्ड क्रमाकं 16 से 6 हजार से भी अधिक मतो से विजयी रही पहली बार चुनाव लडी जीती ओर उपाध्यक्ष बन गई,उल्लेखनीय हे कि राजेश यादव भी अपने राजनेतिक जीवन मे पहली बार जिला पचायतं उपाध्यक्ष ही बने थे ओर उसके बाद ही पार्टी ने उन्हे 2003 मे विधानसभा का टिकिट दिया ओर विजयी रहे यह सयोगं ही हे कि कही 2023 मे मनुप्रिया या उनके पति विनीत यादव जो युवा मोर्चे के पुर्व प्रदेश उपाध्यक्ष रह चुके हे विधायक रहते उनके पिता के निधन के बाद उपचुनाव मे टिकिट के प्रबल दावेदार थे ओर लगातार सतत प्रयास मे रहे ओर सक्रिय रहे, आज भी भाजपा कार्यक्रताओ के साथ ही आमजन मे भी स्वर्गीय राजेश यादव बेहद लोकप्रिय हे ओर मनुप्रिया कि जीत राजेश यादव कि लोकप्रियता का ही परिणाम हे ।