जैन श्वेताम्बर खरतरगच्छ संघ के आचार्य श्री जिन पियुष सागर सुरीश्वर जी महाराज का संत गणो के साथ भानपुरा आगमन हुआ

जैन श्वेताम्बर खरतरगच्छ संघ के आचार्य श्री जिन पियुष सागर सुरीश्वर जी महाराज का संत गणो के साथ भानपुरा आगमन हुआ
भानपुरा। जैन श्वेताम्बर खरतरगच्छ संघ के आचार्य श्री जिन पियुष सागर सुरीश्वर जी महाराज का संत गणो के साथ 28 जुन को भानपुरा आगमन हुआ। आगमन पर नाहर नर्सिग होम से भव्य प्रवेश शोभा यात्रा निकली शोभा यात्रा के मार्ग मे स्थान स्थान पर महाराज श्री कि गवली कर वदंना कि गई। शोभा यात्रा का समापन जयानंद भवन भलवाडा पार्शवनाथ मंदिर पर हुआ जहा महाराज श्री ने मंदिर जी के दर्शन किए बाद मे एक धर्म सभा मे प्रवचन दिए। इसके पुर्व आचार्य श्री संत गणो के साथ पेदल विहार करते हुए डा पारस नाहर व डा प्रमिला नाहर के निवास स्थान पहुचें जहा नाहर दम्पति ने वदंना करते हुए। सकल जैन समाज कि नवकारसी का लाभ लिया,नवकारसी जैन श्वेताम्बर सोशल ग्रुप भानपुरा के तत्वाधान मे हुई। महाराज श्री कि अगवानी विधायक देवीलाल धाकड,समाज अध्यक्ष अनिल बाफना,सोशल ग्रुप के राष्ट्रीय सचिव अनिल नाहर,चातुर्मास समिती अध्यक्ष अतिमं चौरडिया,ग्रूप अध्यक्ष हर्षवर्धन चौरडिया,डा पारस नाहर,डा प्रमिला नाहर, दिगम्‍बर जैन सोशल ग्रुप के उज्‍जैन रिजन के निदेशक अमित हरसोला अध्‍यक्ष अभीषेक जैन, सचिव विपीन सेठी, कोमल सामरिया, धर्मेन्‍द्र ठोरा, महावीर ठाई, ललीत जैन, मनीष दोतडवाला, कोमल कोरिया,अमरजीतसिंह चिटकारा,राधेश्याम सागित्रा,अशोक गोखरु सहित सैकडो महिला पुरुषो ने की,जैन युवक महासंघ,विचक्षण सामायिक मण्डल,जैन श्वेताम्बर महिला मण्डल,जयानंद पाठशाला मण्डल ,ने भी शोभायात्रा मे अपनी उपस्तिथी दी।
जयानंद भवन मे हुई धर्म सभा मे आचार्य श्री मंगलाचरण किया व मांगलिक सुनाई,युवा मुनी सम्यकरत्न सागर जी महाराज ने अपने ओजस्वी प्रवचन मे कहा कि भोतिक सुख नाशवान हे इसे पाने के लिए आतुर मत बनो यह सब दुख के कारण हे पेसा ओर भौतिक साधनो से कभी सुख नही मिल सकता,सच्चा सुख जिन शासन कि सेवा मे हे ,मुनी श्री ने कहा कि आज संस्कृति अतिथी सत्कार,गुरु सेवा सब समाप्त होती जा रही है। जो चितंनीय हे जीवन मे आध्यात्म का होना जरुरी हे सांसारिक चीजो से मिलने वाला सुख क्षणिक हे इस सुख कि लालसा मे हम अपना दीर्ध कालीन ,सुख खत्म कर रहे है। जिनशासन अनमोल शासन हे ओर यह हमे मिला हे इसका लाभ ले ओर धर्म के मार्ग पर चलकर अपने जीवन का कल्याण करे। आपने कहा कि भानपुरा नगर व श्री संघ मे खरतरगच्छ विभुषण परम पुज्य जयानंद जी महाराज ने चार चातुर्मास किए हे यह बहुत मायना रखता हे श्री संघ कि जयानंद जी के प्रति व संघ के प्रति श्रद्धा व आस्था प्रशसंनीय हे सभी इसी मार्ग पर चले आपने भानपुरा मे इस वर्ष श्री जिन शिशु प्रज्ञा श्री जी आदि ठाणा 10 के चातुर्मास मे अधिक से अधिक धर्म इराधना करने जिन शासन कि भक्ती करने का संदेश श्री संघ को दिया। परम पुज्य आचार्य श्री कि पावन निश्रा मे जयानंद भवन मे 28 जुन को दादा गुरुदेव का पुजन हुआ पुजन के लाभार्थी निर्मल कुमार चोरडिया परिवार थे। 29 जुन को भानपुरा के प्रेम ग्रन्थ गार्डन मे विजय कुमार विशाल चौरडिया परिवार कि ओर से दादा गुरुदेव पुजन व स्वामी वातसल्य का आयोजन किया गया है। संघ पुजा सुधीर नवलखा परिवार ने की संचालन नितीन नाहर ने किया,आचार्य श्री का इस वर्ष का चातुर्मास कोटा मे है। 9 जुलाई को प्रवेश होगा। आप भानपुरा से संधारा,रामगंजमण्डी होते हुए कोटा पंहुचेगे।
फोटो..... भानपुरा मे आचार्य श्री के भव्य प्रवेश पर निकली शोभा यात्रा का।